Two line Shayari – Best Two Line Shayari Ever

Two line Shayari

दिसम्बर क्या आया हम दोनो ही अकेले रह गये….!! एक मै और एक वो आखिरी पन्ना कैलेन्डर का….!!!!


मोहब्बत छोड के हर एक जुर्म कर लेना…वरना तुम भी मुसाफिर बन जाओगे,, हमारी तरह इन तन्हा रातों के..!!


एक शमा अंधेरे में जलाए रखना सुबह होने को है माहौल बनाए रखना कौन जाने वो किस गली से गुज़रें हर गली को फूलों से सजाए रखना…!!


क्या बेचकर हम तुझे खरीदें,“ऐ….ज़िन्दगी”,सब कुछ तो “गिरवी” पड़ा है,
ज़िम्मेदारी के बाज़ार में…!!!


उसने आज पूछा आपके मन में क्या है??हम आज भी ना कह पाए कि”तुम”…!!👈


दिल है धड़कन है बस ये तुम पर मर बैठा है,ये क्या रास्ता चुन लिया है जिन्दगी ने जिन्दा हूँ पर तुझपर मर बैठा हूँ….!!


*हवा गुजर गयी, पत्ते हिले भी नहीं…..वो मेरे शहर मे आये और मिले भी नहीं…!!*

Spread the love

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *